Dosti Shayari (दोस्ती शायरी), Friendship Shayari

Dosti Shayari 

Karoge yaad ek din dosti k zamane ko,
hum chale jaynge ek din wapis na ane ko,
zikr jab ched dega koi mehfil me humara,
chale jaoge tanhai me aansoo bahane ko…


करोगे यद इक दिन दोस्ती के झमने को,
हम चले जग में एक दिन कोई ना कोई,
जिक्र जाब चेद देगा कोई मेफिल मुझे हमरा,
चले जोगी तन्हाई मेरे आनसो बहने को…


Dosti Shayari and Friendship Shayari

Dosti vo nahi hoti jo “jaan’ deti hai,
Dosti vo nahi hoti jo “muskan” deti hai,
Asli dosti to vo hoti hai jo !
Samundar me gira “ANSU” bhi Pahchaan leti hai !!

दोस्ती वो नहीं होती जो जान देती है,
दोस्ती वो नहीं होती जो जान देती है,
असली दोस्ती वो होती है जो!
समुन्द्र में गिरा आंसू भी पहचान लेती है!!


Kuch dost zindagi me is kadar samil ho jate
he.Agar bhulana chaho to or yad aate he
bas jate he wo dil me is kadar ki
aankhe band karo to samne nazar ate he…  

कुच दोस्त ज़िन्दगी मैं है कदर समल हो जते
वह। भुलाना चहो या यद आटे को
bas jate he wo dil me kadar ki है
आंखे बंद करो समर नजर को उसने खा लिया ...




Doston Ki Bheed Mein Dikhta Hai Ik Dost Aap Jaisa,
Lakhon Sitaron Mein Ik Sitara Dharuv…. Hoobhoo Vaisa,
Apke Sahare Kadam Uthte hain Dewane “Dhanwant” Ke
Aapki Duaon Ka Saath Hai To Dil Mein Phir Dar Kaisa

दोस्तों की भीड़ में दीखता है एक दोस्त आप जैसा,
लांखो सितारों में इक सितारा धृव ... हूबहू वैसा,
आपके सहारे कदम उठते है देवाने धन्वंत के
आपकी दुआओं का साथ है तो दिल में फिर दर कैसा

Nadiyon ki dosti sagar se hai
Badal ki dosti ambar se hai
Chand ki dosti sitaron se hai
Fulon ki dosti khushbu se hai
Parvat ki dosti jharno se hai
Bagon ki dosti kaliyon se hai
Umangon ki dosti dil se hai
Humari dosti sirf aap se hai…

नदियों की दोस्ती सागर से है
बदल की दोस्ती अम्बर से है
चाँद की दोस्ती सितारों से है
फूलों की दोस्ती खुशबु से है
पर्वत की दोस्ती झरनों से है
बागों की दोस्ती कलियों से है
उमंगों की दोस्ती दिल से है
हमारी दोस्ती सिर्फ आप से है...

Naa koi rishta naa koi shart
Bas ek anjana see ehsaas
Jaise jindagi odh aayi ho
Ek halka saa libas
Aur baahein phailaaye keh rahi ho
Mujh se dosti karoge
Ek umar mera sath doge
Bas yahi ek ehsaas hain
Jo hamein dosti ke liye prerit karta hain…
ना कोई रिश्ता ना कोई शार्क
 बस इक अंजना देख एहसा
 जायस जिन्दगी ओढ़ आये हो
 एक हलका सा लिबास
और बहे फइलाये के रहि हो
मुज से दोस्ती करोगे
 इक उमर मेरा सठ डोगे
 बस याहि इक एहसस है
 जो हमीं दोस्ती है ... प्रीति कर्ता हैं ...

Waqt mile to hamein bhi yaad kar lena
pal pal na sahi din mein ek bar yaad kar lena
dost honge aap ke hazaar par
ham bhi un mien se ek hain itna yaad kar lena.

वक़्त मील से हमीं भी यार कर लेना
पल पल नाही दिन में इक बार यार कर लीना
dost honge aap ke hazaar par
हम भइ अन मयन से एक हँ इतना याद कर लीना।





Bat aisi ho ke jazbat kam na ho,
Khayalat aise ho ke kabhi gam na ho,
Dil ke kone mai itni jagah rakhna,
Ke khali khali se lage jab hum na ho.

बात ऐसी हो के जज्बात कम न हो,
खायाल्टऐसे हो के कभी गम न हो,
दिल के कोने में इतनी जगह रखना,
के खली खली से लगे जब हम न हो.

Zindagi nahin humein doston se pyaari,
Doston pe haazir hai jaan hamaari,
Aankhon mein hamaari aansoon hai toh kya,
Jaan se bhi pyaari hai muskaan tumhaari

ज़िन्दगी नहीं हमें दोस्तों से प्यारी,
दोस्तों पे हाज़िर है जजन हमारी,
आँखों में हमारी आंसूं है तो क्या,
जान से भी प्यारी है मुस्कान तुम्हारी

Dosti khubsurat hai
Tum na mano ye haqikat hai.
Dosti insan ki zarurat hai.
Kisi din aao hamari mehfil me,
Jan jaoge zindagi kitni khubsurat hai…
दोस्ती खुबसूरत है
तुम न मनो ये हकीकत है
दोस्ती इंसान की ज़रूरत है
किसी दिन आओ हमारी महफ़िल में,
जन जाओगे ज़िन्दगी कितनी खुबसूरत है..

Dosti ki raho mai kabhi akelapan na mile,
aai dost zindagi mai tumhe kabhi gum na mile,
dua karte hai hum khuda se,
tuhme jo bhi dost mile hum se kam na mile…

दोस्ती का कहो माई काबिल अकलेपन ना मिले,
ऐ दोस्त ज़िन्दगी माई तोहे कभि गम ना मिले,
दुआ करे है हम खुदा से,
तुहमे जो भी दोस्त मिले हम से कम नहीं…




Pyare se dost ho tum,
Har pal mere saath ho tum,
Dosti ki ek aas ho tum,
Mere maan ka ek vishwas ho tum,
Shayad isliye kuch khaas ho tum…

प्यारे से दोस्त हो तुम,
हर पल मेरे साथ हो तुम,
दोस्ती की एक आस हो तुम,
मेरे मान का एक विश्वास हॉट तुम,
शायद इसलिए कुछ ख़ास हो तुम.

Palbhar mein toot jaye wo kasam nahi,
Dost ko bhul jaye wo hum nahi,
Tum hume bhool jao is baat mein dum nahi,
Kyon ki tum hame bhul jao itne bure hum nahi.

पालभर में तोते जिये वो कसम नहीं,
दोस्त को भूल जाइ वो हम नहीं,
तूं हम भुले जाऊ है, मैं हूं दम नहीं,
क्योन की तुम हम भुल जातो इण बुरे हम ना।

Hum doston ko bhulte nahi hain,
Magar yeh baat jatate nahi hain…
Doston ko hamesha rakhte hain yaad,
Hum bhulne ke liye dost banate nahi hain..

हम दोस्‍तो को भुलते नहीं है,
मगर ये बात जटते नहीं ...
दोस्टन को हमशा रक्ते हैं,
हम भुलने के दिन दोस्त बन जाते हैं ।।

Khushi Ke Aasu Rukne Na Dena
Gum Ke Aasu Bahne Na Dena
Yeh Zindagi Na Jane Kab Ruk Jayegi
Magar Ye Pyari Si Relationsip Kabhi Tutne Na Dena

ख़ुशी के आसु रुकने ना देना
गम के आसु बहने ना देना
ये ज़िंदगी ना जेन कब रुक जाईगी
मगर ये प्यार सी रिश्ता कभी भी ना डेना
 



Tujhe dekhe bina teri tasvir bana sakta hoon,
Tujhse mile bina tera haal bata sakta hoon,
Hai meri dosti mein itna dum,
Apni aankh ka aansoo teri aankh se gira sakta hoon…

तुझ देके बीना तेरी तस्वीर बन सकता हूं,
तुझसे मिले बीना तेरा बाल बटा सकूँ,
है मेरी दास्ताँ इतना दुम,
आपनी आंख का आनसो तेरी आंख से गिरता हूं ...

Duriya hote huye bhi safar vahi rahega,
Door hote huye bhi dostana vahi rahega,
Bahot mushkil he ye safar zindgi ka,
Agar aapka sath hoga to ehesas vahi rahega…

दुरिया होटे हिये भई सफ़र वाही रहेगा, 
डोर होटे होए भी दोस्तां वही,
बहोत मुशकिल वो तू सफ़र ज़िन्दगी का, 

अगार आप सठ होगे से ईषा वाही रहेगा…


Udas Naa Ho Kyonki Mai Saath Hoon,
Samne Naa Sahi Par Aas Pass Hoon,
Bus Dil Se Yaad Karna Mai Koi Aur Nahi,
Bus Pyari Si Dosti Ka Ehsaas Hoon

उदास ना हो क्योकी माई साथ हो,
समाने न साही पार आस पास,
बस दिल से यार कर्ण माई कोई और नहीं,
बस प्यारी सी दोस्ती का एहसस हून



Dosti nazaro se ho to use kudarat kahate hai,
Sitaro se ho to use zannat kahate hai,
Husan se ho to use mohabbat kahate hai,
Aur dosti aapse ho to use kismat kahate hai…

दोस्ती नज़रो से हो तो कुदरत कहती है,
सीतारो से हो ज़न्नत कहती है,
हुस्न से हो मुहब्बत का इस्तमाल करने के लिए,
और दोस्ती अनास हो को किस्मत आजमाने के लिए…

Dil me tumhaare apni kami chod jaayenge,
Aakhon me intzaar ki lakeer chod jaayenge,
Yaad rakhna mujhe dhoondhte firoge ek din,
Zindagi me dosti ki kahaani chod jaayenge…

दिल मुझसे तुमरे कामी चोद जायेंगे,
अखोन मे इंतेजार के लेलर चोद जायेंगे,
यद रक्खा मुज ढोंढे फिरोज इक दिन,
ज़िन्दगी मुझे दोस्‍ती की कहानी…

Kashish dil ki har cheez bhula deti hai,
Band aakhon mein bhi sapne saja deti hai,
Sapno ki duniya jarur rakhna dost,
Kyun ki hakikat to aksar logo ko rula deti hai…

कशिश दिल की हर चीज भुला देई है,
बन्द आखाण में भी साजन से है,
सपनो की दुनीया जरूर राखना दोस्त,
क्यूँ की हकीकत से अक्सार लोगो को रुला दे ना…
 
Muskurana hi Khushi nahi hoti,
Umar bitana hi Zindagi nahi hoti,
Khud se bhi zyada khayal rakhna padta hai dosto ka,
Kyoki Dost kehna hi Dosti nahi hoti.

मुसकुराना hi ख़ुशी न होति,
उमर बिटाना ही जिंदगी न होति,
खुद से भी ज़ियादा ख्याल रक् त पत्ता है दोस्तो का,
क्योकि दोस्त कहे से दोस्ती ना होति।



Tere dosti me ek nasha hai,
Tabhi to yeh saari duniya hamse khafa hai,
Naa karo hamse itni dosti,
Ki dil hi hamse puchhe teri dhadkan kahan hai…

तेरे दोस्त मुझसे एक नशा है,
तबि से तोह सरि दुनीया हमसे खफा है,
ना कारो हमसे इटनी दोस्ती,
की दिल से है पुछे तेरी धड़कन का है ...

Har insan ki apni pahchan hoti hai.
Magar hamare sms ki apni shan hoti hai!
Har kisi ko him nahi karte sms magar!
Jis ko karte hai hum msg usme hamari jan hoti hai.

हर इन्सान का अपना प्यार है।
मगर हमरे sms ki apni shan hoti hai!
हर कीसी ने उसे नहीं काते एस एम एस सागर!
Jis ko karte hai hum msg usme हमरी जान होति है।

Kal raat khuda ne puchha,tu itna dosto mein kyun khoya hai,
tab andar se ye awaaz aayi,
dosto ne hi to di hai khushiyan,
pyar karke to hamesha ye dil roya hai…


काल राते खुदा न पुछा, तू इतना दोस्तो क्यूं खोये है,
टैब और तर से तू आवै आयी,
दोस्तो न हाय से दी है खुशियां,
प्यार करे से हमशा ते दिल रोया ...
 
Dosti Shayari and Friendship Shayari

Teri dosti to begair kuch nai sade palle
je modya tu mukh satho hojaange chaale
tenu pulekha k asi jee lvanage tere bina
puchi mere dil to jeda eh soch k v agla saah lena bhulle
teri dosti to begair kuch nai sade palle…

तेरी दोस्ती से बेगरे कुच नै सदे महल
जे मोद्या तू मुख सत्तो हुजंगे चले
तेनु पुलेखा के असी जी लवनेज तेरे बीना
पुची महे दिल से जेड़ा एह सोच क अगला सा लना भुल्ले
तेरी दोस्ती से बेगूस नी सदे महल…

Kamyabi kabhi badi nahi hoti,
Pane wale hamesha bade hote hai.
Darar kabhi badi nahi hoti,
Bharne wale hamesha bade hote hai.
Itihaas ke har panne par likha hai,
Dosti kabhi badi nahi hoti,
Nibhane wale hamesha bade hote hai…

कामाबी कबि बदी न होति,
पान वेले हम्शा बडे होटे हैं।
दार कभि बदी न होति,
भर्ने वले हमशा बडे होते हैं।
इतिहास के हर पन्न बराबर लिहा,
दोस्ती कबी बदी न होति,
निबाने वाले हम्शा बडे होते हैं ...

Aap se jab hamari yaari ho gay,
Duniya aur bhi hamari pyari ho gay,
Ise pehle hum kisi bhi chiz ke adi na the,
Par aab apko yaad karne ki bimari hi gayi.

आप से हमरी यारी हो गे,
दुनिआ अउर हमरी पियारी हो गे,
इसे पेहले हम किससे भी चिज़ के आदि ना,
पार आब अपको याद कर के बिमारी ही गइली।

Dost hain hum tumhare dushman nahin,
tsunami kehlo humein andhi nahin,
baha le jayenge tumhe apni dosti main,
magar dhool ankhon mein jhokenge nahin!!!!


दोस्त हैं हम तुम्हार दुश्मन नहीं,
सुनामी कहलो हमीं और कभी नहीं,
बाह ले जायेंगे तुम अपना दोस्त मुख्य,
म्हारा ढोल आखों में झोकेंगे न !!!!
 
Dosti Shayari and Friendship Shayari


Aansu na hote to aankh itni haseen na hoti,
Dard na hota to khushiyo kya hoti,
Puri karte khuda yuhi sab muraade,
To ibadat ki kabhi zarurat na hoti.

आंसु ना होते हैं आंखें हसीन न होति,
Dard na hota से khushiyo kya hoti,
पुरी कटे खुदा युही सब मुरदे,
Ibadat ki kabhi zarurat ना होति।

Mausam ki tarha halat badalte hai apne bhi halat badal jayee ge.
Aj who hame bhul gaye to kay kal hum bhi unhe kise aur k liyee bhool jaye ge
mausam ki tarha halal badl jayee ge.

मौसम की तरहा हलात बडलते है आप अपना हाल बलात जायते जीई
अज जो हम भल गय से करे कल हम भी अनीसे और के लीये भूल गए जी
मौसम की तरहा हलाल बिल्ले जाय जी।

Waqt badlata hai zindagi ke sath,
Zindagi badlati hai waqt ke sath.
Waqt nahi badlata doston ke sath,
Bas dost badal jate hai waqt ke sath.

वक़्त बिल्लाता है ज़िंदगी के साथ,
     ज़िन्दगी बिल्लाती है वक़्त के साथ
     वकत न बडलता दोस्तन के,
     बस दोसत बडल जते है वक़्त के साथ।

Kinaro pe sagar ke khazane nahi aate,
Fir jeevan mein dost purane nahi aate,
Jee lo in palo ko hass ke janab,
Fir laut ke dosti ke zamane nahi aate,


किनारों पे सागर के खज़ाने नहीं आते,
फेर जीवन मे दोसत पुरान न आवे,
जी लो पालो में परेशानी के जनाब,
फेर लुट के दोस्ति के झमने नहीं आते,
 



Kasur na unka hai na mera,
Hum dono rishton ki rashme nibhate rahe.
Who dosti ka ehsaas jatate rahe,
Hum mohabbat to dil me chhupate rahe…

कसूर ना उका है ना मेरा,
हम दोनो रिश्तें की रश्म निबते हैं।
कौन दोसत का एहसा जटते राहे,
हम हैं मुहब्बत से दिल को छुपाना ...


Khwaish aisi ki aasman tak ja sako
Dua aisi ki khuda ko pa sako.
Jeene ke liye pal bahut kam hai,
Jiyo aise ke har pal mein zindgi pa sako…

खविश आसी के आसमन तक जा सको
दुआ ऐस की खुदा को पा सको।
जेने के लिऐ पल बहोत काम है,
जियो ऐस के हर पल में ज़िंदगी पा साको…

Uljhan Agar koi Aa Jaye toh Humse na Chhupana,
Sath na de Zuban toh Aankho se batana,
Har kadam par saath hein Hum Aapke,
DOST banaya hai toh HAQ Zaroor Jatana.

उलजं अगार कोइ आ जाई तो हमे ना छूपाना,
सथ न दे जुबान तोह आंखो से बटना,
हर कदाम पर साथ है हम आपके,
डीओएसटी बनया है तोह एचएक्यू जकर जताना।
 
Ae dost main tujhe bhool jaau,
Ye teri bhool hai,
Teri kya taarif karu
Tu ek mehakta hua phool hai.

एई दोस्त मुख्य तुझे भूल जाऊ,
ये तेरी भूल है,
तेरी क्या तेरीफ़ करु
तू इक मेखता हुआ फूल है।



Har Koyi Pyar Ke Liye Tarapta Hai…
Har Koyi Pyar Ke Liye Rota Hai….
Mere Pyar Ko Galat Mat Samajh Na….
Pyar To Dosti Mein Bhi Hota Hai.

हर कोई प्यार के लिय तरपता है ...
हर कोइ प्यार के लिऐ रोता है ...।
मेरे प्यार को गलात मात समाज ना…।
प्यार तो दोस्ती में हो गया है

Har savar ek nai umeed deti hain, aj humeri unse mulakat hogi….
din dalta rehta hain par woh yaad nhi karte, na jane kya bat hogi….
sara din yuhi nikal jaya ,ek botal hi hai jo sath hogi…..
har savar ek nai umeed deti hain, aj humeri unse mulakat hogi…

हर सवर ईक नाइ उमेद देतिन, अज हमरी अनसे मुलकत होगि…।
दीन दल रेता है पर वो यद न काटे, ना जाने क्या बैट होगे…।
सारा दिन युही निकले जया, इक बटल ही है जो सठ होई… ।।
हर सवर इक नइ उमेद देत हैं, अज हमरी अनसे मुलकत होगि…

Dosti vo nahi hoti jo 'jaan’ deti hai ,
Dosti vo nahi hoti jo 'muskan' deti hai ,
Asli dosti to vo hoti hai jo !
Samundar me gira 'ANSU' bhi Pahchaan leti hai !!

दोस्ती आवाज न होति जो 'जाणी' है,
दोस्ती आवाज न होति जो 'मस्कन' डटी है,
अस्ली दोस्त से आवाज होई है जो!
समुंदर मेरे जिरा me ANSU ’बोली पछान लेती है !!
 
“Dil ki galiyon main gam na ho
Bas ye dosti hamari kam na ho
Ye hai dua hamari ki tum khush raho
Kya pata hum kal ho na ho”

“दिल का गलियोन मुख्य गम ना हो
बास तु दोस्ती हमरी काम ना हो
ये है दुआ हमरी की तू खुश रो
क्या पित हम कल हो ना ”



Dosti mein duriyaan to aati jaati rehti hain,
Fir bhi dosti dilon ko milati rehti hain,
Woh dost hi kya jo naaraz na ho,
Par sachchhi dosti doston ko manaati rehti hain …

दोस्ती मे दुरियाण से आटी जात रिहती है,
फ़िर भी दोस्ती दिल में मिल जाती है,
वोह दोस्त हाय क्या जो नाज़ है,
पार साच्ची दोस्ती दोस्तां मनती रिहती है ...

Kahi Andhere To Kahi Sham Hogi
Meri Har Kushi Dosti Ki Nam Hogi
Kuch Mang Ke To Dekho Dost
Hontho Pe Hasi Aur Hatheli Pe Jaan Hogi…

कहि अन्धेरा को कहि शम होगे
मेरी हर ख़ुशी दोस्ती के नाम होगी
कुच मांग के को देखो दोस्त
हुतो पे हसी और हाथेली पे जान होगे…

Dosti Aisi Karo Ke Duniya Dekhti Rahe
Dosti Aisi Karo Ke Duniya Dekhti Rahe
Aur Khuda Bhi Ake Tumse Puchhe
Kya Mujse Dosti Karoge?

दोस्ती ऐसी करो के दुनीया दे खोती राहे
दोस्ती ऐसी करो के दुनीया दे खोती राहे
और खुदा भी आके तुमसे पुछे
क्या मुजसे दोस्ती करोगे?
 
Agar hum na hote to ghazal kaun kehta,
Aap ke chehre ko kamal ko kehta,
Yeh to karishma hai mohabbat ka,
Varna pathro ko tajmahal kaun kehta….

Agar hum na hote to ghazal kaun kehta,
आप के प्यार के कमाल हैं,
ये करिश्मा है मुहब्बत का,
वर्ना पथरो को तजमहल का कहे…।



Baat Woh Karo Jo Auron Ko Achhi Lage
Shayari Woh Likho Jo Dil Ki Hatal Baya Karen
Dost Aese Banao Jo Gum Mei Sine Se Lage
Pehchan Woh Banao Ki Jane Ke Baad Bhi Log Yaad Karen…

बाट वो कर जो जो कोन अची लागे
शायरी वोह लिखो जो दिल की हटल बाया करेन
दोस्त अइस बानो जो गम मे सिन से लागे
पेहचान वो बानो की जेन के बड़ लोग लॉग याद करन ...

Har Koi Pyar Ke Liye Rota Hai
Har Koi Pyar Ke Liye Tadapata Hai
Mere Dosti Ko Galat Mat Samajana
Pyar To Dosti Me Bhi Hota Hai ……

हर कोइ प्यार के लीये रोटा है
हर कोइ प्यार के लिऐ तड़पता है
मेरे दोस्त को गलात मत समाज
प्यार से दोस्ती मुझे भी हो गई ……

Tere saath baate karte karte waqt yu hi gujar gaya,
Door hokar bhi dost, tera pyar dil ko chhu gaya,
Ji liya he maine un har lamho ko,
Kal ka kya pata tha dekho waqt kaha chala gaya

तेरे साथ बाते करे काम वाक् यू ही गुर्जर गया,
डोर होकर भी दोसत, तेरा प्यार दिल को छू गया,
जी लिया उसने मान अन हर लमहो को,
काल का क्या पाता है, देखो वही का चल गया
 
Har savar ek nai umeed deti hain, aj humeri unse mulakat hogi….
din dalta rehta hain par woh yaad nhi karte, na jane kya bat hogi….
sara din yuhi nikal jaya,ek botal hi hai jo sath hogi…..
har savar ek nai umeed deti hain, aj humeri unse mulakat hogi…

हर सवर ईक नाइ उमेद देती, अज हमरी अनसे मुलकत होगि…।
दीन दल रेता है पर वो यद न काटे, ना जाने क्या बैट होगे…।
सारा दिन युही निकले जया, इक बटल ही है जो सठ होई… ।।
हर सवर इक नइ उमेद देत हैं, अज हमरी अनसे मुलकत होगि…



Phoolo se khushboo churayi nahi jati,
Suraj se roshni chhipayi nahi jati,
Kitni bhi door kyo na ho tum,
Dosti me aap jaisi dost ki dosti bhulayi nahi jati....

फूलो से खुश्बू चुरायी नहीं जाति,
सूरज से रोशन छीपाही नहीं जाति,
किटनी बोली द्वार क्या न हो,
दोस्ती मुझे आ जाई ये दोस्त की दोस्ती भलाई नहीं जाति ...।

Na Chand Ki Tarah,Na suraj Ki Tarah,
Na Aasma Ki Tarah,Na sitaro Ki Tarah,
Koi Dost Mujhe Mile To Bus Aap Ki Tarah !!

ना चांद की तराह, ना सूरज की तराह,
     ना प्लाज्मा की तराह, ना सितारो की तराह,
     कोइ दोस्त मुजे मिले ते बस की तराह !!

Aankho mein basne wala pyaara sa ishara ho….
Andheri raat mein chamakta sitara ho….
Chhu bhi nahi sakti udasi kabhi usko….
Jiska Koi DOST itna pyaara ho..!!

आंखो में बसने वाला प्यार सा इस्सर हो…।
अंधेरी रात में चामकटा सितारा हो…।
छुहि न कहति उडसि कबहि हमको…।
जसका कोई DOST इतना प्यार हो .. !!
 

Dosti ke mayne hamse kya puchte ho,
Hum abhi in baton se anjaan hain,
Sirf ek gujarish hai ke bhool na jana hame,
Kyonki aapki dosti hi hamari jaan hai……

दोस्ती के मायने हमसे पुछते हो,
हम अभि में बट्टन से अंजान हैं,
सिरफ इक गुर्गीश है के भूल ना जाना,
कयोनि आपकी दोस्ती ही हमरी जान है ……




Dosti Shayari (दोस्ती शायरी), Friendship Shayari Dosti Shayari (दोस्ती शायरी), Friendship Shayari Reviewed by Kamal Baliyan on 11/14/2019 Rating: 5

No comments:

आप सभी को नमस्कार प्लीज कमेंट करने का धयान रखे ये साईट आप की ही है |

Powered by Blogger.